सोशल मीडिया पर फेमस हुए ‘बाबा का ढाबा’ के नाम पर पैसों के हेरफेर की बात सामने आई थी. वहीं अब यू-ट्यूबर गौरव वासन के खिलाफ दिल्ली की मालवीय नगर पुलिस ने आईपीसी की धारा 420 के तहत एफआईआर  दर्ज किया है. दिल्ली पुलिस ने बाबा का ढाबा के मालिक कांता प्रसाद की शिकायत के बाद जांच की और गौरव वासन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

वहीं इस मामले में कांता प्रसाद ने आरोप लगाया कि गौरव वासन ने उससे संपर्क किया और अपने व्यवसाय को बढ़ावा देने के मकसद से उनके साथ एक वीडियो शूट किया. आरोप है गौरव वासन ने अपने ऑफिशियल अकाउंट से वीडियो को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया और जनता से अनुरोध किया कि वह कांता प्रसाद को मदद करने के लिए पैसे दान करें.

बता दें 31 अक्टूबर को कांता प्रसाद ने मालवीय नगर पुलिस स्टेशन में गौरव वासन के खिलाफ फ्रॉड से संबंधित शिकायत दर्ज कराई थी. जिसमें कांता प्रसाद  ने आरोप लगाया कि वह हनुमान मंदिर मालवीय नगर मार्केट के सामने बाबा का ढाबा के नाम से एक स्टाल चला रहे हैं. और अक्टूबर  के महीने में गौरव वासन ने उनसे संपर्क किया और अपने व्यवसाय को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए उनके साथ एक वीडियो शूट किया.

इसके बाद यह वीडियो शूट किया गया और गौरव वासन ने इसे सोशल मीडिया पर अपने अकाउंट स्वाद ऑफिशियल के माध्यम से पोस्ट किया और जनता से अनुरोध किया कि वह कांता प्रसाद को आर्थिक रूप से मदद करने के लिए पैसे दान करें. वीडियो वायरल हुआ और  बाबा के अनुसार, गौरव ने जानबूझकर केवल अपने और अपने परिवार के सदस्यों के बैंक विवरण और दान के लिए मोबाइल नंबर साझा किए और भारी मात्रा में पैसा एकत्र किया और बाद में शिकायतकर्ता को धोखा दिया. शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने जांच की और धारा 420 के एफआईआर दर्ज किया.

बता दें कि पिछले महीने ‘बाबा का ढाबा’ का एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हुआ था. वीडियो में कांता प्रसाद को यह कहते हुए देखा गया कि कोरोना महामारी के बीच उनकी आय 100 रुपये से कम थी. ये वीडियो यू-ट्यूबर गौरव वासन ने शूट कर अपने चैनल पर अपलोड किया था और दिल्ली वालों से बुजुर्ग जोड़े की मदद करने का अनुरोध किया. उन्होंने लोगों से पैसे दान करके उनकी आर्थिक मदद करने के लिए भी कहा था.