उत्तर प्रदेश में लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने की तैयारी है. देवरिया और जौनपुर में चुनावी रैलियों के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस भावी कानून का ना सिर्फ ऐलान किया, बल्कि इसके सख्त प्रावधानों का भी जमकर प्रचार किया है. देश में लव जेहाद की बढ़ती हुई घटनाओं को ध्यान में रखते हुए, लव जेहाद के खिलाफ बढ़ते हुए देश के गुस्से को समझते हुए और हिंदू संगठनों की बहुत पुरानी मांग को मानते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लव जेहाद के खिलाफ कानून बनाने का ऐलान कर दिया है.

वहीं आब उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लव जेहाद के शौकीनों को एक बुरी खबर सुना दी. उन्होंने कहा है कि उत्तर प्रदेश में लव जेहाद करने वालों की राम-नाम सत्य की यात्रा निकलने वाली है. जिसके लिए उत्तर प्रदेश में लव जेहाद के खिलाफ कानून आने वाला है. उत्तर प्रदेश के उपचुनावों में देवरिया और जौनपुर की रैलियों में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस भावी कानून का ना सिर्फ ऐलान किया है. बल्कि इस कानून के सख्त प्रावधानों और सजा के अलग-अलग प्रकारों का भी जमकर प्रचार किया है.

साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक आदेश दिया है कि शादी के लिए धर्म परिवर्तन को मान्यता नहीं मिलनी चाहिए. इस वजह से सरकार भी निर्णय ले रही है कि हम लव जिहाद को सख्ती से रोकने का काम करेंगे.

बता दें कि देश में आठ राज्य धर्मांतरण के खिलाफ सख्त कानून लागू कर चुके हैं, जिनमें उड़ीसा पहला राज्य है जिसने धर्मांतरण के खिलाफ कानून लागू किया है, तो वहीं अरुणाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश, झारखंड, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और गुजरात ने अपने-अपने प्रदेश में धर्मांतरण कानून को लागू किया हुआ है. अब इस राह पर उत्तरप्रदेश देश का नौवां राज्य होगा जहां धर्मांतरण कानून लागू किया जाएगा.