हरियाणा के बल्लभगढ़ में कॉलेज से निकल रही छात्रा की सोमवार को सरेआम हत्या के मामले में अब बवाल बढ़ गया है. पीड़ित परिवार अब सड़क पर बैठ गया है. इस वारदात को लेकर लोगों में जबरदस्त गुस्सा दिख रहा है. पुलिस ने भले ही दोनों आरोपियों तौसीफ और रेहान को गिरफ्तार कर लिया हो, लेकिन लोगों की नाराजगी कम नहीं हई है. धरने पर बैठा पीड़ित परिवार लगातार इंसाफ की मांग कर रहा है. परिवार का कहना है कि पहले ही रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी, लेकिन समझौता हो गया. अब फिर से बदमाशों ने बेटी का जीना मुश्किल कर दिया और मार डाला.

वहीं परिजनों का यह भी आरोप है कि हत्या का आरोपी तौसीफ जबरन लड़की का धर्म परिवर्तन करवाना चाह रहा था, ऐसा करने में असफल रहने के बाद उसने पहले अपहरण करने का प्रयास किया और नाकाम रहने पर लड़की की गोली मारकर हत्या कर दी.

परिजनों का कहना है कि तौसीफ बार-बार निकिता पर मुस्लिम बनने का दबाव डाल रहा था. जब उसने इनकार किया तो फिर उसने इस वारदात को अंजाम दिया. 2018 में भी हमने पुलिस में शिकायत दी थी. निकिता पर मुस्लिम बनकर शादी करने का दवाब डाला जा रहा था. वह नहीं मानी तो अपहरण की कोशिश की गई. जब उसने विरोध किया तो फिर उसकी हत्या कर दी गई.

बता दें कि बल्लभगढ़ सिटी थाना एरिया के मिल्क प्लांट रोड स्थित अग्रवाल कॉलेज में पढ़ने वाली छात्रा निकिता का सोमवार को कार सवार दो युवकों ने अपहरण करने का प्रयास किया था. प्रयास विफल होने पर आरोपियों ने छात्रा की गोली मारकर हत्या कर दी. हत्या के बाद आरोपी कार में सवार होकर फरार हो गए. परिवार ने तौसीफ नाम के एक युवक पर हत्या का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई थी.

वहीं परिजनों ने अब जानकारी देते हुए बताया है कि आरोपी ने 2 अगस्त 2018 को भी उनकी बेटी का अपहरण किया था. इस मामले में उन्होंने मामला भी दर्ज कराया था. मगर लोकलाज के चलते उन्होंने इस मामले में समझौता कर लिया था. परिवार का आरोप है कि अब युवक ने उनकी बेटी की जान ले ली. आरोपी मेवात के रोजका मेव गांव का रहने वाला है.

हालांकि पुलिस तौफीक को गिरफ्तार कर चुका है, लेकिन जब हर गली में सैकड़ों तौफीक घात लगाए बैठा हो तो फिर आपको स्वयं और अपने घर की महिलाओं को सशक्त करना पड़ेगा.