आपको बता दें कि अभी हाथरस में हुई 19 वर्षीय दलित किशोरी के साथ गैगरेप मामले की आग ठंडी भी नहीं हो पाई थी कि अलीगढ़ के थाना खैर क्षेत्र के गांव में चार वर्षीय बच्ची के साथ उसके ही परिवार के 28 वर्षीय चाचा के द्वारा रेप की घटना को अंजाम दिए जाने का मामला सामले आया है.

दरअसल अलीगढ़ के खैर थाना क्षेत्र के गांव उदयपुर में एक 4 साल की बच्ची अपने घर पर थी. तभी ही गांव में ही रहने वाला उसका एक रिश्ते का चाचा अजीत शराब के नशे में आया और बच्ची को अपने साथ घुमाने के बहाने ट्यूबल पर ले गया. जहां उसने बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया और मौके से फरार हो गया. किसी तरह घटना की सूचना जब बच्ची के परिवार वालों को मिली तो वह मौके पर पहुंच गए और उन्होंने पुलिस को सूचना दी. उसके बाद मौके पर अलीगढ़ के एसपीआरए शुभम पटेल भी पहुंच गए, जिसके बाद उन्होंने बच्ची को मेडिकल जांच के लिए भेज दिया.

वहीं इस घटना पर एसपीआरए शुभम पटेल ने जानकारी देते हुए बताया कि यह थाना खेर में एक गांव है उदयपुर उसमें पुलिस को पीआरवी पर सूचना आई थी एक छोटी बच्ची जिसकी उम्र लगभग 4 वर्ष है उसके पिता का नाम नरेश है उसके साथ दुष्कर्म किया गया है. मौके पर पीआरवी तुरंत पहुंची और पीआरवी में उस बच्ची को अस्पताल तक पहुंचाया, और उसकी हालत स्थिर है.

वहीं पूरी जानकारी के बाद पुलिस को पता चला कि बच्ची का ही रिश्तेदार अजीत सन ऑफ महेंद्र सिंह जिसकी उम्र लगभग 28 वर्ष है जो मानसिक रूप से अस्वस्थ है उसने ही बच्ची के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया है. इस संबंध में धारा 376 और 5/6 पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है. पुलिस टीम आरोपी की तलाश में लगी हुई है शीघ्र ही उसको गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

इन घटनाओं के बाद फिर एक बार ये सवाल खड़ा होना लाजमी है कि आखिर कैसे देश की महिलाओं और मासूम बच्चियों को सुरक्षा का भरोसा दिलाया जाए जबकि वो ना तो घर पर ही सुरक्षित है और ना ही वहर, चाहे इसके लिए कितने भी कानून क्यों ना बना दिए जाए. लेकिन जब तक देश के लोगों की मानसिकता नहीं बदलेगी तब तक ये मुद्दा जस का तस बना रहेगा