यूपी- सम्भल जनपद के चन्दौसी में शुक्रवार को सभी दलित संगठनों ने देश में चुने 131 सुरक्षित सीटों के सांसदों की अर्थी निकाली,सेकड़ो की संख्या में दलित समाज के संगठनों का उन सभी सांसदों पर गुस्सा फूटा है, जो हाथरस की रेप पीड़िता के परिजनों और मृतका को न्याय दिलाने की आबाज नहीं उठा रहे है. देश के 131 सुरक्षित सीटों पर बैठे सभी दलित सांसद मौजूदा सरकार की बजह से चुप है.

साथ ही दलितों का कहना है कि ये देश में 131 सांसदों जो दलित है वो इसलिए आज सांसद बने हुए बैठे है, क्योंकि वो दलित है मगर आज हाथरस में जो दलित की बेटी के साथ अन्याय हुआ है, लेकिन सरकार कुछ नहीं कर पा रही है. हमारे सभी सुरक्षित सीटों 131 सांसद भी चुप्पी साधें है, और वो सिर्फ इसलिए की वह सरकार के खिलाफ नहीं जाना चाहते इसी लिए आज हमने इन सभी दलित 131 सांसदों की अर्थी को पूरे शहर में घुमाकर इनकी चिता भगत सिंह पार्क चौराहे पर जलाने जा रहे है.

वहीं 131 सांसदों की शव यात्रा को सम्भल के चन्दौसी खुर्जा गेट डॉक्टर भीम राव आंबेडकर पार्क से निकलकर पूरे शहर में घूमते हुए चन्दौसी के स्टेशन रोड आजाद भगत सिंह की प्रतिमा पर जा कर खत्म हुए, और आजाद भगत सिंह की प्रतिमा के सामने दलित संगठनों ने देश में संसद में बैठे 131 दलित सांसदों की अर्थी को आग के हवाले करने ही जा रहे थे कि तभी वहाँ मोके पर भारी पुलिस बल पहुंच गया और दलित संगठनों के साथ 131 सांसदों की अर्थी जलाने के लिए नोक झोक हुई और पुलिस ने अर्थी को अपने कव्जे में लेकर अपनी पुलिस जीप में रख लिया.

जिसके बाद मौके पर पहुंचे चन्दौसी SDM ,CO ,SHO और भारी पुलिस बल की तैनाती में दलित संगठनों ने राज्य पाल के नाम चंदौसी SDM को ज्ञापन सौफा और पुलिस 131 सांसदों की अर्थी को दलित संगठनों से छीनकर अपने साथ ले आयी हाथरस की रेप पीड़िता मनीषा ,और बलराम पुर की रेप पीड़िता विमला के हथियारों को फांसी की मांग करते हुए नारे बाजी की गई.