उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ की तहसील इगलास कस्बे में भाजपा की केंद्र सरकार की नीतियों और किसानों के लिए लाए गए अध्यादेश के खिलाफ सैकड़ों की तादात में भारतीय किसान यूनियन के किसान कार्यकर्ताओं ने अलीगढ़ मथुरा रोड पर विरोध प्रदर्शन कर चक्का जाम करते हुए सरकार की नीतियों के खिलाफ सड़क पर बैठकर जमकर नारेबाजी की. जहां सड़कों पर इस दौरान वाहनों का लंबा जाम लग गया। मौके पर पहुचें एसडीएम सीओ इलाका पुलिस जाम खुलवाने में लगी.

बता दें कि देशभर में किसान नेताओं के द्वारा किसान विरोधी बिल को लेकर दी गई भारत बंद की चेतावनी को सफल बनाने के लिए शुक्रवार को देशभर में किसान नेताओं और राजनीति पार्टियों के द्वारा आंदोलन किया गया. जिसमें किसान नेताओं के द्वारा अलग अलग जगह अलग अलग तरीक़े से अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया. किसान नेताओं के द्वारा एक दिन पहले ही प्रशासन को चक्का जाम की चेतावनी दी गई थी. जिसको लेकर भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट के द्वारा जबरदस्त प्रदर्शन किया और अलीगढ़ के अलीगढ़ मथुरा रोड को जाम कर दिया. वहीं इसकी सूचना जब पुलिस को मिली तो मौके पर इलाका पुलिस भी पहुँच गई. और किसानों को समझाने लगी लेकिन किसान नेता मानने को तैयार नही हुए। और लगातार प्रदर्शन करते हुए.

भारतीय किसान यूनियन के संगठन मंत्री भूदेव प्रसाद शर्मा और कार्यकर्ताओं द्वारा केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कहा कि भाजपा सरकार की करनी और कथनी में बहुत अंतर है. भाजपा सरकार कहती कुछ है और करती कुछ है. सरकार ने किसानों को एक बंधुआ मजदूर बनाने की कगार पर किसानों को सरकार ले जाने की कोशिश कर रही है. जिससे कि किसानों के लिए बहुत ही दर्दनिय स्थिति पैदा होगी. जिससे आगे आने वाले पीढ़ी को दर्द महसूस होगा. इसलिए किसान विरोधी बिल कि घोर निंदा करते हुए किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया है.

वहीं उपजिलाधिकारी कुलदेव सिंह के द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया. किसानों के द्वारा किसी भी तरह का कोई चक्का जाम नहीं किया गया है. सिर्फ थोड़ा ट्रेफिक अवरोध हुआ था. उसे जल्दी सही करवा दिया गया. साथ ही किसानों के द्वारा कृषि सम्बन्धित बिल को महामहिम राज्यपाल के नाम दिया गया है. अग्रिम कार्यवाही के लिए ज्ञापन प्रेषित कर दिया जाएगा.