सरकार के द्वारा आम जनता के लिए तरह तरह की योजनाएं चलाई जा रही है। जिससे आम जनता को लाभ मिल सके। लेकिन इन योजनाओं का आम जनता तक इस का लाभ कितना पहुँच पा रहा है। ये हकीकत सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। वैसे तो सरकार द्वारा दिये जा रहे राशन में कम तोलने और राशन कम देने और राशन ना देने जैसे गोलमाल करने की शिकायतें आम बात है। लेकिन सरकार के द्वारा दिये जा रहे राशन में गेंहू चावल चीनी जैसे खाद्य सामिग्री में कंकड़ पथ्थर बालू की तश्वीरें देखकर आप दंग रह जाएंगे।

आपको बता दें कि अब तक आपने सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों पर सड़ा हुआ राशन बांटने के मामले तो सुने होंगे। लेकिन गांव कल्याणपुर के अंदर भ्रष्टाचार और मुनाफाखोरी के लिए की जा रही कालाबाजारी का नया खेल निकलकर सामने आया है। जहां राशन के गेहूं में बदरपुर मिला हुआ है। और इसी बदरपुर मिले गेहूं को राशन डीलर द्वारा ग्रामीणों को बाटा जा रहा हैं। जिसमें एक गेहूं के बोरे के अंदर करीब दस किलो से ज्यादा बदरपुर निकल रहा हैं। जहां गेहूं के अंदर बदरपुर निकलने का यह मामला केवल गांव कल्याणपुर का नहीं है। बल्कि अलीगढ़ जिले के अंदर कई जगह से इस तरह की शिकायतें मिल रही हैं।

पूरा मामला अलीगढ़ के तहसील अतरौली में स्थित गांव कल्याणपुरी रानी गांव का है। जहां ग्रामीणों को खाद्य सामिगी के रूप में मिलने वाले राशन में गेहूँ ,चावल,में पथ्थर कंकड़,और चीनी में बालू को देखकर ग्रामीणों में आक्रोश पनप उठा। ग्रामीणों के द्वारा राशन के अन्य बोर खुलवाए गये तो उन बोरो का भी यही नजारा था। जिसकी सूचना किसी के द्वारा भाजपा पदाधिकारी को दी गई। मौके पर भाजपा पदाधिकारी के हस्तक्षेप के बाद पूर्ति निरीक्षक को बुलाया गया तो जांच करने पर पाया गया उक्त गेहूं के बोरे गोदामों पर ही पैक हुए और ऊपर से ही सभी बोरो में मिलावट आई है गोदाम से आए गेहूं के बोरों की जानकारी की बात सुनकर सभी दंग रह गये।

वहीं उपजिलाधिकारी पंकज कुमार के द्वारा मामले में शिकायत मिलने के बाद तुरंत पूर्ति निरीक्षक को मौके पर भेजकर जांच की गई। तो जांच करने के दौरान गेहूं के बोरा को खुलवाया गया। तो गेहूं के बोरों के अंदर भारी मात्रा में बदरपुर पाया गया। जिसके बाद इस पूरे मामले के अंदर जो लोग दोषी हैं। और पूरे घटनाक्रम को जानने के बाद निष्पक्ष जांच करवाकर रिपोर्ट जिलाधिकारी अलीगढ़ को प्रेषित करने की बात कही गई है।