अलीगढ़ में एक बार फिर बड़े आंदोलन की तैयारी शुरू हो गई है। एएमयू के छात्र यूनियन हॉल में लगी जिन्ना की तस्वीर को लेकर हिंदूवादी छात्रों ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य के नाम धर्म समाज महाविद्यालय के अंदर एकत्रित होकर पत्र लिखा है। एएमयू वाइस चांसलर से मांग की एएमयू के अंदर लगी जिन्ना की तस्वीर को हटाया जाए। अगर जिन्ना की तस्वीर नहीं हटी तो हिंदूवादी छात्र नेता एएमयू के अंदर जाकर खुद जिन्ना की तस्वीर को हटाएंगे।

वहीं हिंदूवादी छात्रों द्वारा पत्र लिखते हुए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर से मांग की गई है। कि तत्काल कैंपस के अंदर लगी जिन्ना की तस्वीर हटाया जाए। ऐसे में अगर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अंदर से जिन्ना की तस्वीर नहीं हटती है। तो इसके लिए हिंदूवादी छात्र खुद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जाकर कैंपस के अंदर दीवार पर लगी जिन्ना की तस्वीर को हटाएंगे।

साथ ही हिंदूवादी छात्रों का कहना है कि एएमयू के अंदर जिन्ना की तस्वीर हटाकर वीर सावरकर की तस्वीर लगाई जाए। जहां जिन्ना की तस्वीर को लेकर छात्र पहले भी विरोध प्रदर्शन कर चुके हैं। वही मंगलवार को थाना गांधी पार्क इलाके के धर्म समाज महाविद्यालय कॉलेज पर इकट्ठा होकर हिंदू छात्र नेताओं ने देश के प्रधानमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नाम पत्र लिखा ।

दरअसल आज से करीब दो वर्ष पहले जिन्ना की तस्वीर को लेकर इन्हीं छात्रों द्वारा एक आंदोलन किया गया था। उस दौरान अलीगढ़ में जमकर बवाल हुआ था। और छात्र जेल भी गए थे। आज फिर से छात्रों द्वारा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के लिए एक पत्र लिखा गया है। हिंदूवादी छात्रों ने कहा है कि बहुत जल्द अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से जिन्ना की तस्वीर को वाइस चांसलर द्वारा तत्काल हटाए और जिन्ना की तस्वीर की जगह पर वीर सावरकर की तस्वीर लगाई जाए। छात्र नेता अमित गोस्वामी,अर्जुन सिंह गोलू,आदित्य पंडित ने पत्र लिखा है। अगर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कैंपस के अंदर से जिन्ना की तस्वीर नहीं हटाई जाती तो हिंदूवादी छात्र खुद एएमयू कैंपस में जाकर लगी जिन्ना की तस्वीर हटाएंगे।

बता दें कि अलीगढ़ में बनने वाली राजा महेंद्रप्रताप यूनिवर्सिटी में राष्ट्रभक्त वीर सावरकर की प्रतिमा लगावाने की मांग की है। और एएमयू में लगी जिन्ना की तश्वीर को हटाकर वहां भी वीर सावरकर की प्रतिमा लगाई जाए। जिससे छात्र उनके पदचिन्हों पर चलकर स्वयम के अंदर राष्ट्र प्रेम की भावना जागृत कर सके। क्योंकि किसी भी शैक्षिक परिसर में लगी मूर्तियों और तस्वीरों का असर वहां के छात्रों पर भी पड़ता है। जहां एएमयू में लगी जिन्ना की तश्वीर से प्रेरणा ली तो एएमयू का छात्र मन्नान वाणी आतंकी निकला।