उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ के क्वार्सी थाना क्षेत्र के पंच बिहार कॉलोनी की रहने वाली में 19 वर्षीय लड़की ने आरोप लगाया है कि गैर समुदाय के लोगों ने उसे दरगाह में बंधक बनाकर रखा। उसका कहना है कि जैसे ही उसे मौका मिला वह वहां से भाग निकली। इसके बाद अखिल भारत हिंदू महासभा के लोगों को युवती ने आपबीती बताई।

युवती का आरोप है कि उसकी दादी गैर समुदाय के युवक के साथ उसकी शादी कराना चाहती थी। हालांकि, युवती का यह भी कहना है कि चाचा और दादी ने कभी धर्म परिवर्तन का दबाव नहीं बनाया, न ही धर्म परिवर्तन कराया गया। इस मामले में युवती ने अलीगढ़ के एसएसपी को लिखित में शिकायत देकर आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है। यह मामला देहली गेट थाना क्षेत्र के शाह जमाल दरगाह का है।

वहीं भारतीय जनता पार्टी के महानगर मंत्री संजू बजाज एसएसपी कार्यालय पहुंचे। उन्होंने एसएसपी मुनिराज से युवती को इंसाफ दिलाने की मांग की। उन्होंने लड़की को सुरक्षा दिलाने एवं लड़की के परिवार के लोगों द्वारा धमकी दिए जाने के मामले में मांग की है कि प्रशासन गंभीरता से लें और दोषियों पर सख्त कार्रवाई करें।

पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा के जिला मंत्री संजू बाजाज ने कहा कि ऐसी दरगाह एवं ऐसे केंद्रों की जांच होनी चाहिए। जहां हिंदू लड़कियों को बंधक बनाकर रखा जाता है। साथ उनका कहां है कि कहीं ना कहीं ये एक बहुत बड़ा षड्यंत्र है। बहुत बड़ा गिरोह इसके पीछे कार्य कर रहा है। इसकी जांच प्रशासन को करनी चाहिए और उन पर सख्त कार्रवाई हो।

दरअसल अलीगढ़ के क्वारसी थाना क्षेत्र के पंच विहार कॉलोनी की रहने वाली 19 वर्षीय हिंदू युवती का आरोप है। कि उसकी दादी दरगाह में रहती हैं। युवती को बहाने से देहली गेट थाना क्षेत्र के शाह जमाल इलाके में दरगाह पर बुला लिया। और 14 दिन तक युवती को दरगाह में बंधक बनाकर रखा गया। और वो गैर समुदाय के युवक के साथ मेरी शादी करना चाहते थे । इस पूरी घटना में मेरी दादी शामिल हैं। मैं किसी तरह से भागकर वहां से आई हूं। वे लोग मेरी जबरन शादी करा रहे थे।’