उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ के जिला अधिकारी लगातार पिछले ढाई वर्षो से जिले की कमान सम्भाले है। जहां शासन स्तर से ढाई वर्ष के अंतराल में ना जाने कितने आईएएस इधर से उधर ट्रांसफर हो गए। लेकिन कई बार अपनी तानाशाही के चलते जिलाधिकारी को अपनी फजीहत भी झेलनी पड़ी। इसे लेकर कई बार अलीगढ़ के सांसद और विधायकों ने भी जिलाअधिकारी की मनमानी की शिकायत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से की। लेकिन शिकायतों के बावजूद भी अलीगढ़ जिले के जिलाअधिकारी का स्थानान्तरण नही हुआ।

बता दें कि जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह का सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो दीनदयाल हॉस्पिटल के पूर्व प्रभारी सीएमएस विमल गुप्ता को जूते मारने की धमकी देते सुनाई दे रहे हैं. हालांकि जी मीडिया वायरल हो रहे इस ऑडियो की पुष्टि नहीं करता है. लेकिन बताया जा रहा है कि ये ऑडियो 2 महीने पहले का है, जिसमें DM तत्कालीन प्रभारी CMS के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल भी करते सुनाई दे रहे हैं.

जिसमें जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते सुनाई दे रहे हैं। देखिए उनकी ये बातचीत

डीएम: अरे सुन लो भाई मेरी बात सुन लो। इसमें मुझे चीफ सेक्रेटरी को जवाब देना है। तुम बकवास कर रहे हो। मैं तुम से पूछ कुछ और रहा हूं और बता कुछ और दे रहे हो।
वीके गुप्ता: जी-जी

डीएम: जो दीनदयाल में मुख्यमंत्री जी के यहां से उस दिन फीडबैंक लिया गया था। जिसमें तुमने आख्या भेजी थी। जो उसने शिकायत की थी, उसके निस्तारण के बारे में पूछ रहा हूं मैं। उसका न बताकर फालतू वाली बात कर रहे हैं।
वीके गुप्ता : जी सर, उसे निकलवाकर अभी देख रहा हूं।

डीएम: पहले सुन लो यार। मैं क्या बोल रहा हूं, पहले सुनों।
डॉ. गुप्ता: जी-जी बताइए।

डीएम: अनिल कुमार ने यह कहा है कि वहां स्टाफ मरीजों की सुनता नहीं हैं। पानी मांगता रहा
डॉ.गुप्ता: जी

डीएम: उसमें लिखा है कि पहले का स्टाफ अच्छा था। अब क्या? पहले कौन सा स्टाफ था? अनिल कुमार से पूछा आपने? अनिल कुमार है क्या आईसीयू में।
डॉ.गुप्ता: होंगे सर। होना चाहिए?

डीएम: उसमें पूछो कि कौन स्टाफ था? और उसने उसको नहीं सुना। उसको आपने हटा दिया। स्पष्ट आख्या चाहिए मुझे अभी।
डॉ.गुप्ता: वैसे तो मैंने सर हर एक वार्ड में।

डीएम: तुम तो यार बात सुनोगे नहीं। जवाब तुम्हें तो नहीं मुझे देना पड़ता है वहां पर।
डॉ. गुप्ता: जी बताईए।

डीएम: अब तुम…. कर रहे हो। 50 जूता मारके तुम्हें वहां से भगा दूंगा। दिमाग खराब किए हो मेरा तो।
डॉ.गुप्ता: बताइए।

डीएम: जब स्पष्ट बात कर रहा हूं तो स्पष्ट जवाब दो न।
डॉ.गुप्ता: हां बताइए।

डीएम: जब लिखत पढ़त में गया है। गया है कि नहीं आपके पास प्रिंट?
डॉ. गुप्ता: जी-जी

डीएम: तुमको किसने बना दिया प्रभारी सीएमएस। कोई और दूसरा आदमी नहीं है जो बनकर के देख लेगा। ………। सवाल में क्या कर रहा हूं। बकवास। जब मुख्यमंत्री जी के यहां से…।

दरअसल अलीगढ़ के रामघाट रोड से पंडित दीनदयाल अस्पताल के अंदर अनिल कुमार नाम के व्यक्ति ने शासन को इलाज में लापरवाही की शिकायत की थी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग के सीएमएस से वह लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ रिपोर्ट मांग रहे हैं। इसी दौरान जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह फोन पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए सीएमएस को गालियां भी दे रहे हैं।