आगरा के सरोजिनी नायडू मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस पास कर चुकीं युवा महिला डॉक्टर की कुछ दिनों पहले बेरहमी से हत्या कर दी गई. इस मामले में आगरा पुलिस ने एक डॉक्टर को गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर विवेक ने योगिता की हत्या की है. हत्याकांड में चौंकाने वाला खुलासा यह हुआ है कि योगिता को तीन गोलियां मारी गईं. डॉक्टर विवेक तिवारी ने ही इस घटना को अंजाम दिया.

डॉक्टर तिवारी ने पूछताछ में पुलिस को बताया है कि उसने गाड़ी में ही योगिता को गोली मार दी थी. इससे पहले दोनों के बीच काफी झगड़ा भी हुआ था. विवेक तिवारी ने योगिता के सिर और कंधे पर गोलियां मारीं. बाद में उसने चाकू भी मारा. खून से सना चाकू डॉक्टर की कार से मिला है. विवेक तिवारी ने पुलिस को बताया है कि गोली मारने के बाद उसने रिवॉल्वर लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फेंक दी थी. पुलिस रिवॉल्वर बरामद करने की कोशिश में लगी है.

आगरा के दौकी इलाके में सुनसान जगह पर योगिता का शव बरामद किया गया था. शव सुबह में बरामद हुआ लेकिन शाम तक शिनाख्त हो पाई. हत्यारोपी विवेक तिवारी मुरादाबाद में मेडिकल कॉलेज में योगिता का सीनियर रह चुका है. पुलिस के मुताबिक विवेक तिवारी योगिता पर शादी का दबाव बना रहा था. तिवारी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है. उसका दावा है कि योगिता से उसका 7 साल पुराना परिचय था.

वहीं आगरा के एसपी बबलू कुमार ने बताया कि योगिता के परिजनों का आरोप है कि डॉ तिवारी योगिता को अक्सर फोन करता था और धमकी देता था. हत्यारोपी तिवारी अभी जालौन मेडिकल कॉलेज में मेडिकल ऑफिसर है. आगरा पुलिस ने जालौन पुलिस की मदद से हत्यारोपी डॉक्टर को गिरफ्तार किया. एसपी ने कहा कि हत्यारोपी से लंबी पूछताछ हुई है और इससे कई जानकारी सामने आई है.

बात दें कि विवेक तिवारी मंगलवार को जालौन से योगिता से मिलने आया था. शाम 6.30 बजे के आसपास दोनों एक कार में बैठे हुए थे. बातचीत के दौरान झगड़ा हो गया. इसी बीच उसने योगिता को गोली मार दी. मौत सुनिश्चित करने के लिए उसने चाकू भी मारा. तिवारी ने पुलिस को बताया कि उसने एक सुनसान जगह पर शव फेंक दिया और वहां से हटने के पहले शव को लकड़ियों से ढंक दिया.