उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में दलित पूर्व ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते की हत्या का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल आज सत्यमेव जयते के परिवार से मिलने जा रहा था, लेकिन उन्हें रोक दिया है. सर्किट हाउस के अंदर कांग्रेस के बड़े नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है.

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पीएल पुनिया, प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नितिन राउत को जिला प्रशासन ने गांव में जाने पर रोक दिया है. सभी बड़े नेताओं को सर्किट हाउस में एक तरह से नजरबंद कर रखा है. किसी कार्यकर्ता को भी बड़े नेताओं से मिलने की इजाजत नहीं है.

साथ ही मीडिया को भी अंदर जाने पर रोक लगा दी गई है. कांग्रेस के जिला अध्यक्ष ने पीएल पुनिया, अजय कुमार लल्लू और नितिन राउत को नजरबंद किए जाने की पुष्टि की है. वहीं, जिला प्रशासन के आला अधिकारी अभी कैमरे के सामने कुछ भी बोलने से बच रहे हैं.

बता दे कि जिले के तरवां थाना क्षेत्र के बांसगांव ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते उर्फ पप्पू राम की शुक्रवार दरे शाम को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी….. बाइक सवार बदमाशों ने ग्राम प्रधान के घर पहुंचे और बुलाकर 42 वर्षीय प्रधान को गोली मारी दी….. पुलिस और पब्लिक की भगदड़ में एक बच्चे की भी मौत हो गई…….

वहीं इस घटना के बाद हिंसा भड़क गई थी ………ग्रामीणों ने सड़कों पर उतर तोड़फोड़ के बाद आगजनी की घटना को अंजाम दिया…… इस दौरान भगदड़ में एक मासूम की भी मौत हो गई……. ग्राम प्रधान की हत्या से गुस्साए ग्रामीणों ने पुलिस चौकी में भी जमकर तोड़फोड़ की और पुलिसकर्मियों पर पथराव किया…… वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ ने तत्काल कार्रवाई करते हुए थानाध्यक्ष और चौकी प्रभारी को सस्पेंड करने और दोषियों के खिलाफ गैंगस्टर लगाने और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत कार्रवाई करने के आदेश दिए थे…..तो वही यह भी बताया गया कि आजमगढ़ जिले में पिछले 24 घंटे में यह तीसरी हत्या थी……

आजमगढ़ में दलित पूर्व ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते की हत्या के मामला