हिजबुल कमांडर नवीद बाबू के साथ पकड़े गए डीएसपी देविंदर सिंह को सोमवार को निलंबित कर दिया गया है. बता दें कि डीएसपी देवेंद्र सिंह को लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने जम्मू-कश्मीर को कई बार आगाह भी किया था, लेकिन कभी किस्मत तो कभी लापरवाही की वजह से डीएसपी देवेंद्र सिंह बार-बार बचता रहा. लेकिन 11 जनवरी को सुबह जब वो श्रीनगर से अपने आई-10 कार में अपने घर से निकला तो उसकी किस्मत इस बार उसका साथ नहीं दिया, और जवाहर टनल से पहले पुलिस ने उसे हिज्बुल के दो टॉप आतंकियों के साथ गिरफ्तार कर लिया.

वहीं पूछताछ में कई चौंकाने वाले खुलासे के बाद दूसरी बार उसके घर की तलाशी ली गई. इस में पता चला कि उसने तीन आतंकियों को अपने घर ठहराया था. उसका घर बादामीबाग स्थित सेना की 15वीं कोर मुख्यालय के बगल में है. इसके साथ ही श्रीनगर एयरपोर्ट स्थित उसके कार्यालय को भी सील कर दिया गया है, जहां वह एंटी हाइजैकिंग स्कवॉड में तैनात था.

डीएसपी देवेंद्र सिंह1.jpg

साथ ही इस पूछताछ में यह भी पता चला है कि हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर नवीद बाबू तथा अल्ताफ को लेकर शुक्रवार को वकील इरफान डीएसपी के घर पहुंचा था. इरफान आतंकी संगठनों के लिए ओजीडब्ल्यू के तौर पर काम करता है. मीर बाजार इलाके में आतंकियों के साथ पकड़े जाने के दिन डीएसपी ड्यूटी से गैरहाजिर था. उसने रविवार से गुरुवार तक छुट्टी ले रखी थी. पकड़े जाने के बाद जब उसके घर की तलाशी ली गई तो एक एके-47 राइफल, दो पिस्टल तथा गोला-बारूद बरामद किया गया था.

बता दें कि उसके एयरपोर्ट स्थित दफ्तर को इसलिए सील किया गया है, ताकि सबूतों से किसी प्रकार का छेड़छाड़ न की जा सके. पूछताछ में हुए खुलासे के बाद सोमवार को उसके श्रीनगर स्थित आवास की दोबारा तलाशी ली गई। यहां से कुछ अहम दस्तावेज जब्त किए गए हैं। पूरे मामले से जुड़ी अहम कड़ियां तलाशने के लिए  कई जांच टीमें बनाई गई हैं. टीमें कश्मीर के अलग-अलग हिस्सों में जांच कर रही हैं.

अफजल गुरु से साथ था लिंक

डीएसपी देवेंद्र सिंह का आतंकवाद के साथ पहला रिश्ता तब सामने आया जब संसद पर हमले के दोषी आतंकी अफजल गुरु ने अपने एक पत्र में अपने वकील को लिखा कि देवेंद्र सिंह ने उसे एक आतंकवादी को दिल्ली लाने को कहा था और यहां पर उसके लिए रहने की व्यवस्था करने को कहा था. ये आतंकी जैश का वही सदस्य था जो संसद पर हमले के दौरान सुरक्षा बलों की कार्रवाई के दौरान मारा गया था. हालांकि अफजल के पत्र में देवेंद्र सिंह का नाम आने के बावजूद भी उससे पूछताछ नहीं की गई.