ईरान ने 8 जनवरी को इराक में दो अमेरिकी एयरबेस पर मिसाइलों से हमला किया था. अटैक के कुछ घंटे बाद बुधवार को एक बोइंग प्लेन ईरान में क्रैश कर गया था. इस विमान में 176 यात्री सवार थे, विमान में सवार सभी 176 यात्रियों की मौत हो गई थी. बता दें कि अब ईरान ने विमान क्रैश को लेकर अपनी गलती स्वीकार कर ली है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ईरान का कहना है कि मानवीय भूल की वजह से उसने अपने ही विमान को मार गिराया. हालांकि इससे पहले बताया गया था कि विमान तकनीकी खराबी की वजह से क्रैश है.

आपको बता दें कि बुधवार को इस विमान ने तेहरान से कीव के लिए उड़ान भरी थी. उड़ान भरने के कुछ मिनट बाद ही विमान क्रैश गया था. इस विमान में सबसे अधिक यात्री ईरान के ही थे. ईरान के 82 यात्रियों के साथ 63 कनाडाई, यूक्रेन के 11, स्वीडन के 10, अफनागिस्तान के 4, जर्मनी के 3 और यूके के 3 लोग सवार थेहादसे में क्रू मेंबर सहित सभी यात्रियों की मौत हो गई थी. अब रॉयटर्स के मुताबिक, ईरान की मिलिट्री ने स्टेट टीवी को एक बयान जारी कर बताया है कि मानवीय भूल की वजह से उसने एयरक्राफ्ट को निशाना बनाया.

ईरान की मिलिट्री का कहना है कि विमान ईरान की सेंसिटिव मिलिट्री साइट के पास उड़ रहा था. बयान में ये भी कहा गया है कि मिलिट्री का ज्यूडिशियल डिपार्टमेंट मामले की जांच करेगा और घटना की जवाबदेही तय की जाएगी. ईरानी मिलिट्री ने मृतक के परिवार वालों के लिए शोक जताया है.