सरकार की आर्थिक और जनविरोधी नीतियों के खिलाफ आज ट्रेड यूनियनों ने भारत बंद का ऐलान किया है. बुधवार सुबह से ही भारत बंद का असर भी दिखने लगा है. इस बांद में ट्रेड यूनियनों को अन्य कई संगठनों का भी समर्थन मिल रहा है. इसमें 6 बैंक यूनियंस ने भी हड़ताल का समर्थन किया है.

इस बंद का असर अब मुख्य रूप से बैंकिंग और ट्रांसपोर्ट क्षेत्र में दिखाई दे रहा है, जो सीधे तौर पर आम व्यक्ति को प्रभावित करती है. आज कई बैंकिंग बंद हैं, जिनमें पब्लिक सेक्टर के बैंक भी शामिल हैं. इसके अलावा जगह-जगह ट्रेन, बस को रोका जा रहा है और हाइवों पर जाम लगाया जा रहा है.

बता दें कि भारत बंद का सबसे ज्यादा असर अबतक बंगाल में दिख जा रहा है. बुधवार सुबह से ही यहां पर प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन, सड़क, बस सर्विस को रोकने के लिए विरोध जताया. इस दौरान कई ट्रेनों को रोका भी गया है. बता दें कि जिन ट्रेड यूनियन के द्वारा बंद बुलाया जा रहा है उनमें अधिकतर लेफ्ट पार्टियों से जुड़े हैं यही कारण है कि बंगाल में अधिक असर दिख रहा है.

वहीं बंगाल में प्रदर्शन की आशंका को देखते हुए बस ड्राइवर भी चौकन्ने हो गएं हैं. सिलिगुड़ी में राज्य बस सर्विस के ड्राइवर हेलमेट पहनकर बस चला रहे हैं, ताकि किसी तरह के हमले से बचा जा सके. आपको बता दें कि बीते दिनों देश में जो भी प्रदर्शन हुए हैं, उनमें कई बार हिंसक विरोध देखने को मिला है. फिर चाहे वो नागरिकता संशोधन एक्ट को लेकर हो या फिर नेशनल रजिस्टर फॉर सिटिजन हो यही कारण है कि इस बार हर कोई चौकन्ना है.

कौन-कौन है हड़ताल में शामिल

INTUC, AITUC, HMS, CITU, AIUTUC, TUCC, SEWA, AICCTU, LPF, UTUC और कई अन्य सेक्टोरल इंडिपेंडेंट फेडरेशन और असोसिएशन्स हड़ताल में शामिल हैं. तो वहीं इसके अलावा, 60 स्टूडेंट यूनियन, यूनिवर्सिटीज के अधिकारियों ने भी हड़ताल का हिस्सा बनने का ऐलान किया.  ये शिक्षा संस्थानों में फीस बढ़ोतरी और शिक्षा के कमर्शलाइजेशन का विरोध कर रहे है.