अगर आप ठंड से राहत पाने का इंतजार कर रहे हैं, तो फिलहाल ऐसे नहीं  होने वाला हैं, कंपकंपा देने वाली सर्दी से जूझ रहे उत्तर भारत को फिलहाल राहत मिलने के आसार नहीं हैं. लोगों को इस सप्ताह के आखिरी दो दिनों में और भी भीषण सर्दी का सामना करने के लिए तैयार रहना पड़ेगा इस बार कड़ाके की सर्दी नए साल में खलल डाल सकती है. मौसम विभाग ने दिल्ली एनसीआर, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश के अधिकांश इलाकों और उत्तरी राजस्थान में 28 और 29 दिसंबर को पारा चार डिग्री सेल्सियस तक गिरने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है.

दिल्ली के लोग बीते 10 दिनों से कड़ाके की ठंड का सामना कर रहे हैं. इस से पाहले साल 1997 में लगातार 13 दिनों तक कड़ाके की ठंड यानी ‘कोल्ड डे’ का दौर आया था. वहीं इस साल अब तक 10 ‘कोल्ड डे’ आ चुके हैं. अगर अगले तीन-चार दिन ऐसी ही स्थिति बनी रही तो इस बार 22 साल का रिकॉर्ड टूट सकता है.

वहीं दिल्ली में गुरुवार के दिन काफी कोहरा देखने को मिल रहा है. पारा गिरने के कारण ठंड भी काफी बढ़ चुकी है. कोहरे की वजह से लोगों को यातायात से जुड़ी समस्याओं का सामना भी करना पड़ रहा है. ऐसे में रेल और हवाई यातायात सेवा भी प्रभावित हो रही है. बता दें कि आज राजधानी का न्यूनतम तापमान 6 डिग्री दर्ज किया गया. गुरुवार सुबह दिल्ली-एनसीआर कोहरे की सफेद चादर में लिपटी नजर आया. कई इलाकों में विजिबिलीटी 200 मीटर से नीचे पहुंच गया. तो वहीं, दिल्ली में बुधवार सुबह का तापमान 5.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. मौसम विभाग के मुताबिक शहर में 1997 के बाद से अब तक दिसंबर के महीने में सबसे लंबी अवधि वाले और बेहद ठंडे दिन रिकॉर्ड किए गए.

मौसम विभाग के अनुसार, अब अधिकतम तापमान में थोड़ा इजाफा होने और न्यूनतम तापमान में तेजी से गिरावट का अनुमान है. इसी के साथ मौसम विभाग का अनुमान है कि शनिवार से शीतलहर जैसी स्थिति हो सकती है. न्यूनतम तापमान चार डिग्री से भी नीचे जाने पर ऐसी स्थिति बनती है, और अगले सात दिनों में तापमान 18 से चार डिग्री तक रह सकता है.