जम्मू-कश्मीर के तंगधार सेक्टर में दो जवानों की शहादत का बदला लेते हुए भारत ने पाक अधिकृत कश्मीर Pok में मौजूद लश्कर के तीन कैंपों को तबाह कर दिया. भारत के एक्शन को लेकर भारतीय सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा कि हमले में 6 से 10 पाकिस्तानी सैनिक और कई आतंकी मारे गए हैं. उन्होंने कहा, “जिस तरह की खबर मिली है कि उसमें पाकिस्तानी सेना और उनके आतंकी कैंपों को बड़ा नुकसान हुआ है. इस वक्त 6 से 10 पाकिस्तानी सैनिक और इतने ही आतंकी भी मारे गए हैं. आतंकियों के मारे जाने की खबर और भी मिल रही है, जिसके बारे में हम बाद में जानकारी देंगे. लेकिन हम ये यकीं के साथ कह सकते हैं कि कम से कम तीन आतंकी कैंप तबाह किए गए हैं और चौथे कैंप को भी नुकसान पहुंचा है. सेना प्रमुख ने कहा कि अगर पाकिस्तान ने आगे कोई भी कार्रवाई की तो उसे मुंहतोड़ जवाब दिया गया है.

सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा कि बीते कुछ महीनों में पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की कई घटनाएं सामने आई हैं. हमारे पास पुख्ता सूचना थी कि कुछ आतंकी घुसपैठ की कोशिश में हैं, जिसके बाद यह एक्शन लिया गया और पाकिस्तान को माकूल जवाब दिया गया. बता दें कि पाकिस्तान लगातार हिंदुस्तान की चेतावनी को दरकिनार करते हुए लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है. लिहाजा सेना के पास एक्शन और पाकिस्तान को करार जवाब देने के अलावा दूसरा रास्ता नहीं है. भारतीय सेना ने इस बार लाइन ऑफ कंट्रोल पर नहीं बल्कि Pok के अंदर घुसकर वार किया है.

सेना प्रमुख ने कहा कि जब से अनुच्छेद 370 को जम्मू-कश्मीर से निरस्त किया गया, तब से हमें राज्य में शांति और सद्भाव को बिगाड़ने के लिए सीमा पार से आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ के बार-बार इनपुट मिल रहे हैं. उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे घाटी में हालात सामान्य हो रहे हैं, लेकिन जाहिर है कि पाक और पीओके में कुछ ऐसे आतंकी और एजेंसियां हैं जो शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं.