गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का 63 साल की उम्र में निधन हो गया. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर उनके निधन की जानकारी दी. राष्ट्रपति कोविंद ने पर्रिकर के निधन पर शोक जताया है. निधन से एक घंटे पहले गोवा मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया था कि मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर की हालात बेहद नाजुक है. डॉक्टर अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे हैं. सीएम पर्रिकर हालत बिगड़ने के बाद शनिवार से ही अस्पताल में भर्ती थे.

बता दें कि पर्रिकर सितंबर में अमेरिका से इलाज करवाकर भारत लौटे थे. अमेरिका में एक हफ्ते उनका इलाज चला था. इससे पहले एक बार और इलाज के लिए तीन महीने तक अमेरिका में रहे थे. अमेरिका से लौटने के बाद पिछले साल अक्टूबर के महीने में एक बार फिर उनकी तबीयत खराब हुई जिसके कारण उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था. एक महीने एम्स में भर्ती रहने के बाद उन्हें एयर एंबुलेंस के जरिए गोवा ले जाया गया था. गोवा में उन्हें आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा था.

वहीं मनोहर पर्रिकर के निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने शोक जताते हुए कहा कि मैं बहुत ज्यादा दुखी हू

बता दें कि पर्रिकर के फरवरी 2018 में अग्नाशय कैंसर से पीड़ित थे. मनोहर पर्रिकर की पहचान एक ईमानदार और सादगी भरा जीवन जीने वाले नेताओं में होती रही है. आईआईटी बॉम्बे से ग्रेजुएट पर्रिकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सक्रिय प्रचारक थे. वह चार बार गोवा के मुख्यमंत्री रहे. लम्बे समय से कैंसर से पीड़ित पर्रिकर ने विश्व कैंसर दिवस पर कहा था कि मानव मस्तिक किसी भी बिमारी पर जीत पा सकता है.

पर्रिकर की सेहत लगातार खराब होने के कारण गोवा, मुंबई और अमेरिका सहित कई जगहों के अस्पतालों में उनका इलाज हुआ. इसके बावजूद वह इस बीमारी के चलते जिंदगी से जंग हार गए.