उत्तर प्रदेश की चर्चित आईएएस अधिकारी बी चंद्रकला को आपने यूट्यूब के वायरल वीडियो में देखा होगा. ऐसा नहीं है कि वो केवल यूट्यूब पर ही चर्चित रही हैं, वे रियल लाइफ में भी खासी चर्चित रही हैं. जिस जिले में भी वह रहीं चर्चा में रहीं. कभी सेल्फी प्रकरण में तो कभी पत्रकार को धमकाने के लिए. वही 2008 बैच की आईएएस अफसर बी. चन्द्रकला अखिलेश सरकार की पसंदीदा अफसरों में से एक रही हैं. चन्द्रकला यूपी के उन आईएएस अफसरों में से एक हैं, जिन्हें समाजवादी पार्टी की सरकार में पूरे पांच साल तक कई जिलों के डीएम पद पर तैनाती दी गई.

b-chandrakala

बता दें कि अखिलेश सरकार बनने के एक महीने बाद चंद्रकला को हमीरपुर के डीएम पद पर तैनाती मिली. इसके बाद उन्हें मथुरा जैसे बड़े जिले की कमान दी गई और चार महीने के बाद ही उन्हें बुलंदशहर का डीएम बना दिया गया. यहां वे 2014 से 2016 तक रहीं, बाद में वो बिजनौर और मेरठ की डीएम रहीं. चंद्रकला को सोशल मीडिया पर अपने कथित भ्रष्टाचार विरोधी अभियान के कारण चर्चा मिली थी. ट्विटर पर उनके 8.94 लाख फॉलोवर हैं जबकि फेसबुक पर 85 लाख फॉलोवर हैं.

वही बुलंदशहर में सड़क निर्माण के दौरान बने एक वीडियो में वे ठेकेदार को हड़काती नज़र आई थीं.  2016  में एक लड़के ने उनके साथ कलेक्ट्रेट ऑफिस में सेल्फी लेने का प्रयास किया जिस पर लड़के को शांति भंग की धारा में जेल जाना पड़ा. हालांकि तीन दिन में उसे छोड़ दिया गया. इसी मामले पर एक पत्रकार ने उन्हें फोन किया तो डीएम साहिबा ने उसे भी धमका दिया. इसका ऑडियो भी काफी वायरल हुआ था. मामला बाद में हाई कोर्ट तक भी पहुंचा और अभी लंबित है.

b-chandrakala

बता दें कि सीबीआई ने शनिवार को चर्चित आईएएस अधिकारी बी चंद्रकला के लखनऊ स्थित आवास समेत करीब एक दर्जन ठिकानों पर छापेमारी की. बी चंद्रकला पर हमीरपुर में जिलाधिकारी रहते हुए अवैध खनन व अपने चहेतों को खनन पट्टे देने का आरोप है. एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए दो साल पहले हाईकोर्ट ने बी चंद्रकला द्वारा आवंटित सभी मौरंग खनन के पट्टों को खारिज कर दिया था. साथ ही उनके कार्यकाल के दौरान हुए खनन व पट्टों के आवंटन की सीबीआई जांच का आदेश दिया था.

इसी क्रम में शनिवार को करीब आठ सीबीआई अधिकारियों ने बी चंद्रकला के लखनऊ में योजना भवन के समीप स्थित सफायर अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 101 में छापा मारा. इसके साथ ही हमीरपुर, जलौन, बुलंदशहर आदि कई जगहों पर भी अलग-अलग टीमों ने छापेमारी की.