भारत ने रविवार को मेलबर्न टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को 137 रनों से हरा दिया. इसी के साथ भारत ने चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-1 की बढ़त भी बना ली. साथ ही टीम इंडिया ने मेलबर्न में 37 साल से चले आ रहे जीत के सूखे को भी खत्म किया. बता दें कि भारत ने 37 साल बाद मेलबर्न में कोई टेस्ट मैच जीता है. आखिरी बार भारत को 1981 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में जीत मिली थी. मौजूदा दौरे पर यह भारत की दूसरी जीत है. इससे पहले भारत ने एडिलेड टेस्ट 31 रनों से जीता था. ऑस्ट्रेलियाई धरती पर भारत को यह सातवीं जीत हासिल हुई है.

वहीं इस जीत के साथ ही भारत अब सीरीज में 2-1 से आगे तो हो ही गया है, साथ ही अब उसकी सीरीज हार की संभावनाएं भी खत्म हो गई हैं. क्योंकि अगर ऑस्ट्रेलिया अगला मैच जीत भी जाता है तो सीरीज 2-2 से बराबरी पर खत्म होगी. इस मैच को जीतने के साथ भारतीय टीम ने 150वां टेस्ट मैच जीता है. वह इस उपलब्धि को हासिल करने वाली पांचवीं टीम है. इस मैच में भारतीय गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को ‘मैन ऑफ द मैच’ के पुरस्कार दिया गया.

347.jpg

साथ ही एक कप्तान के रूप में विराट कोहली ने पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के रिकॉर्ड की बराबरी भी कर ली. कोहली ने कप्तान के तौर पर विदेशी सरजमीं पर 11 टेस्ट मैच जीत लिए हैं. मैच के पांचवें दिन भारत को जीत के लिए सिर्फ दो विकेट की जरूरत थी लेकिन बारिश ने शुरुआत से ही मैच में खलल डालना शुरू कर दिया. भारत ने मैच शुरू होने के कुछ देर बाद ही कमिंस (63) को चलता कर दिया. इसके बाद ईशांत ने लियोन को आउट करने में ज्यादा देर नहीं लगाई और टीम ने इतिहास रच दिया.​

बता दें कि भारतीय टीम ने मेलबर्न में अब तक ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध कुल 13 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उसे आठ में हार मिली है जबकि 3 मैचों में ही जीत मिली है. अन्य दो मुकाबले ड्रॉ रहे हैं. इस मैदान पर बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच में दोनों टीमों का सामना कुल 8 बार हुआ है, और भारत ने पहली बार जीत दर्ज की. इसमें भारतीय टीम को पांच मैचों में हार मिली है तो दो मैच ड्रॉ रहे हैं. भारत ने मेलबर्न में वर्ष 2014 में आखिरी बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच धोनी की कप्तानी में खेला था जो ड्रॉ रहा था. इसके बाद धौनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था और विराट ने टेस्ट टीम की कमान संभाली थी.

unnamed