अमृतसर: बुराई पर अच्छाई की जीत के पर्व पर जब देश जश्न में डूबा था, रावण दहण का दौर जारी था. पंजाब के शहर अमृतसर से बहुत बुरी खबर आई है. अमृतसर के जौड़ा फाटक के पास एक बड़ा रेल हादसा हुआ और पुलिस के मुताबिक 60 से ज्यादा लोगों के मरने की खबर है. पुलिस ने आशंका जाहिर की है कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है. ये हादसा ऐसे वक्त में हुआ जब लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर दशहरे के जश्न में डूबे थे, तभी पटरियों की दोनों तरफ से ट्रेनें आ गई, जिसने कई लोगों की जान ले ली है.

इस हादसे में 60 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका है. चश्मदीदों के मुताबिक ये बहुत दर्दनाक हादसा है. इसमें मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है. हादसे का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि लोग कह रहे हैं कि वे ऐसा मंजर अमृतसर में आज तक नहीं देखे थे. चश्मदीदों के मुताबिक शवों की स्थिति बहुत खराब है. किसी का हाथ गायब है तो किसी का सिर. उनके मुताबिक लाशों को देखने की हिम्मत तक नहीं है. एक चश्मदीद ने इस हादसे के लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया. उसने कहा कि क्या लोगों को ट्रेन को लेकर बताया नहीं जा सकता था. उनके मुताबिक ऐसा मंजर उन्होंने फिल्मों में 1947 को लेकर देखा था और सुना था. 1947 के बाद अमृतसर में ऐसा मंजर पहली बार देखा गया जब यहां पर सिर्फ और सिर्फ शव पड़े हैं. जो भी इसके लिए जिम्मेदार है उसपर कार्रवाई हो.

दिल्ली से रेलवे के शीर्ष अधिकारी अमृतसर रवाना हो गए हैं जिसमें रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष, प्रधान मुख्य चिकित्सा निदेशक, प्रिसिंपल चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर, चीफ सेफ्टी ऑफिसर और चीफ कॉमर्शियल मैनेजर शामिल हैं. रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण हादसा है.

फिलहाल जो खबर मिल रही है उसके मुताबिक मृतकों की संख्या में बढोत्तरी हो सकती है. घायलों में अधिकतर लोग यूपी और बिहार के बताए जा रहे हैं. यह ट्रेन पठानकोट से अमृतसर आ रही थी. यह हादसा उस समय हुआ जब लोग रेलवे ट्रैक पर रावण का पुतला दहन कर रहे थे. मरने वालों में बच्चे भी शामिल हैं. खबर लिखे जाने तक राहत एवं बचाव दल मौके पर पहुंच गया है. फिलहाल जो तस्वीरें आ रही हैं वो आपको विचलित कर सकती हैं.

44481958_1762782467177790_986164975523332096_n

वहीं पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमृतसर में हुए दर्दनाक ट्रेन हादसे पर दुख जताया है. उन्होंने कहा कि जिले के अधिकारियों को तेजी से राहत और बचाव अभियान शुरू करने का निर्देश दे दिया गया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, सीएम अमरिंदर सिंह घटनास्थल के लिए कल रवाना होंगे. इसके साथ पंजाब सरकार ने मरने वालो केपरिजनों को 5-5 लाख मुआवजा देने का ऐलान किया है और घायलों को फ्री इलाज किया जाएगा.