• Fri. Sep 17th, 2021

गीतों और कवितों के सुहाने सफर को पीछे छोड़ दुनिया को अलविदा कह गए नीरज

जाने-माने कवि और गीतकार गोपालदास ‘नीरज’ का 93 साल की उम्र में निधन हो गया. नीरज की कलम का जादू कविता, गीत, गजल सभी विधाओं में दिख. महफिलों और मंचों की शमां रोशन करने वाले नीरज को कभी शोहरत की हसरत नहीं रही. उनकी ख्वाहिश थी तो बस इतनी कि जब वो जिंदगी  का दामन छुड़ाए तो उनके लबों पर कोई नया नगमा हो, कोई नई कविता हो.

नीरज ने एक बार किसी इंटरव्यू में कहा था, अगर दुनिया से रुखसती के वक्त आपके गीत और कविताएं लोगों की जबान और दिल में हों तो यही आपकी सबसे बड़ी पहचान होगी. इसकी ख्वाहिश हर फनकार को होती है.

उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के पुरवाली गांव में 4 जनवरी 1925 को जन्मे गोपाल दास नीरज को हिंदी के उन कवियों में शुमार किया जाता है जिन्होंने मंच पर कविता को नयी बुलंदियों तक पहुंचाया. वे पहले शख्स हैं जिन्हें शिक्षा और साहित्य के क्षेत्र में भारत सरकार ने दो-दो बार सम्मानित किया. 1991 में पद्मश्री और 2007 में पद्मभूषण पुरस्कार प्रदान किया गया. 1994 में उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान ने ‘यश भारती पुरस्कार’ प्रदान किया. गोपाल दास नीरज को विश्व उर्दू पुरस्कार से भी नवाजा गया था.

नीरज ने कुछ समय के लिए मेरठ कॉलेज, मेरठ में हिंदी प्रवक्ता के पद पर भी काम किया. कॉलेज प्रशासन द्वारा उन पर कक्षाएं न लेने व रोमांस करने के आरोप लगाये गये जिससे कुपित होकर नीरज ने स्वयं ही नौकरी से त्यागपत्र दे दिया. उसके बाद वे अलीगढ़ के धर्म समाज कॉलेज में हिंदी विभाग के प्राध्यापक नियुक्त हुए. इस दौरान ही उन्होंने अलीगढ़ को अपना स्थायी ठिकाना बनाया. यहां मैरिस रोड जनकपुरी में आवास बनाकर रहने लगे.

gopal das neeraj1

कवि सम्मेलनों में बढ़ती नीरज की लोकप्रियता ने फिल्म जगत का ध्यान अपनी तरफ खींचा. उन्हें फिल्मी गीत लिखने के निमंत्रण मिले जिन्हें उन्होंने सहर्ष स्वीकार किया. फिल्मों में लिखे उनके गीत बेहद लोकप्रिय हुए. जिसके बाद उन्होंने मुंबई को अपना ठिकाना बनाया और यहीं रहकर फ़िल्मों के लिये गीत लिखने लगे. उनके गीतों ने फिल्मों की कामयाबी में बड़ा योगदान दिया. कई फिल्मों में सफल गीत लिखने के बावजूद उनका जी मुंबई से कुछ सालों में ही उछट गया. इसके बाद वे मायानगरी को अलविदा कह वापस अलीगढ़ आ गए.

हालांकि उस वक्त हिन्दी फिल्मों में भी उनके गीतों ने खूब धूम मचायी. 1970 के दशक में लगातार तीन सालों तक उन्हें सर्वश्रेष्ठ गीत लेखन के लिए फिल्म फेयर पुरस्कार प्रदान किया गया. उन्हें जिन गानों के लिए अवॉर्ड मिले उनमें काल का पहिया घूमे रे भइया! (साल 1970, फिल्म चंदा और बिजली), बस यही अपराध मैं हर बार करता हूं (साल 1971, फ़िल्म पहचान), ए भाई! ज़रा देख के चलो (साल 1972, फिल्म मेरा नाम जोकर)

लेकिन अब एक महान उनके पुत्र शशांक प्रभाकर ने बताया कि आगरा में शुरुआती इलाज के बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था लेकिन डॉक्टरों की कोशिशों के बाद भी उन्हें नहीं बचाया जा सका. उन्होंने बताया कि उनकी पार्थिव देह को पहले आगरा में लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा और उसके बाद अलीगढ़ ले जाया जाएगा जहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

बेशक नीरज ने इस दुनिया को अलविदा कर दिया हो, पर वो अपनी  कविता और गीतों के जरिए हमेशा हमारे दिलों में जिंदा रहेंगे

 स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से, लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से

और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे, कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे।

नींद भी खुली न थी कि हाय धूप ढल गई, पाँव जब तलक उठे कि ज़िन्दगी फिसल गई।

पात-पात झर गए कि शाख़-शाख़ जल गई, चाह तो निकल सकी न पर उमर निकल गईमहफिलों और मंचों की शमां रोशन करने वाले नीरज

AAJ KEE KHABAR PURANI YAADEN

Latest news in politics, entertainment, bollywood, business sports and all types Memories .