टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे मैच के दौरान लॉर्ड्स के मैदान पर एक बड़ा कीर्तिमान अपने नाम किया है. दरअसल, धोनी ने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में लॉर्ड्स के मैदान वनडे में 10,000 रन का जादुई आंकड़ा छू लिया है. इंग्लैंड में तीन मैचों की वनडे सीरीज खेली जा रही है, जिसमें टीम इंडिया के पूर्व कप्तान ने यह उपलब्धि हासिल की है.

इस मैच से पहले धोनी को 10,000 वनडे रन पूरे करने के लिए केवल 33 रन की दरकार थी और लॉर्ड्स वनडे में धोनी ने 37 रन की पारी खेलकर यह दुर्लभ रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. इसके साथ धोनी इस मुकाम पर पहुंचने वाले दुनिया के 12वें और भारत के चौथे बल्लेबाज बन गए. धोनी ने इसी के साथ ही 320 मैचों की 273 पारियों में 51.57 की औसत से 10004 रन बनाए. भारत की तरफ से उनसे पहले सचिन तेंदुलकर (18426 रन), सौरव गांगुली (11363) और राहुल द्रविड़ (10889) ने दस हजार से अधिक रन बनाए हैं.MS-Dhoni

इसके साथ महेंद्र सिंह धोनी ने अपने वनडे करियर में एक और उपलब्धि हासिल कर ली है.  वह भारत की ओर से वनडे क्रिकेट में विकेट के पीछे 300 कैच लेने वाले पहले भारतीय विकेटकीपर बन गए हैं. धोनी इस उपलब्धि को हासिल करने से महज दो कैच की दूरी पर थे और उन्होंने लॉर्ड्स के मैदान में इंग्लैंड के खिलाफ यह रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया.  इस मैच के दौरान धोनी ने रिकॉर्ड बनाते हुए इंग्लैंड के खिलाड़ी जोस बटलर और बेन स्टोक्स के कैच लपके.

दरअसल, दुनिया में केवल तीन ही क्रिकेटर ऐसे रहे हैं जिन्होंने क्रिकेट में विकेट के पीछे धोनी से ज्यादा कैच लिए हैं. इनके नाम हैं ऑस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट (417), दक्षिण अफ्रीका के मार्क बाउचर (402) और श्रीलंका के कुमार संगकारा (383). फिलहाल क्रिकेट में सक्रिय किसी भी विकेटकीपर ने धोनी के जितने कैच नहीं लिए हैं. धोनी ने 320 मैचों में 300 कैचों को आकड़ा छुआ है.